क़िस्सा-ए-हुस्न नहीं इश्क़ की रूदाद नहीं's image
087

क़िस्सा-ए-हुस्न नहीं इश्क़ की रूदाद नहीं

ShareBookmarks

क़िस्सा-ए-हुस्न नहीं इश्क़ की रूदाद नहीं

हैफ़ ये बज़्म तिरे ज़िक्र से आबाद नहीं

मोरिद-ए-रंज-ओ-अलम कुश्ता-ए-बेदाद नहीं

वाए बर-ऐश जहाँ मुझ को ख़ुदा याद नहीं

हम-सफ़ीरान-ए-चमन वाह ये पुर्सिश ये करम

अब मुझे शिकवा-ए-बे-मेहरी-ए-सय्याद नहीं

मैं हूँ नाशाद-ए-अज़ल ख़ैर मगर हैरत है

इशरत-आबाद-ए-जहाँ में भी कोई शाद नहीं

क़िस्सा-ए-जौर-ए-फ़लक शिकवा-ए-अय्याम-ए-ज़ुबूँ

एक अफ़्साना है जिस की कोई बुनियाद नहीं

सरफ़रोशान-ए-मोहब्बत पे ख़ुदा की रहमत

मुद्दई सब हैं मगर एक भी फ़रियाद नहीं

वाह ऐ मंज़र-ए-ख़ुश-वक़्ती-ए-मंज़िल क़ुर्बां

दश्त-ए-ग़ुर्बत की मसाइब भी मुझे याद नहीं

मैं ख़तावार मगर तेरे करम के क़ुर्बां

एक मजबूर तो यूँ मुस्तहिक़-ए-दाद नहीं

'राज़' ये नामा-ए-अहसन ये पयाम-ए-इज़्ज़त

वाए तक़दीर कि मैं आज भी आज़ाद नहीं

Read More! Learn More!

Sootradhar