दिल को हरीफ़-ए-नाज़ किए जा रहा हूँ मैं's image
0100

दिल को हरीफ़-ए-नाज़ किए जा रहा हूँ मैं

ShareBookmarks

दिल को हरीफ़-ए-नाज़ किए जा रहा हूँ मैं

हर शय से बे-नियाज़ किए जा रहा हूँ मैं

शुक्र-ए-निगाह-ए-नाज़ किए जा रहा हूँ मैं

फ़ितरत को कारसाज़ किए जा रहा हूँ मैं

है जुस्तुजू-ए-सिर्र-ए-हक़ीक़त-रवाँ-फरोज़

राह-ए-तलब दराज़ किए जा रहा हूँ मैं

दुनिया को दे रहा हूँ सबक़ हुस्न-ओ-इश्क़ का

इफ़्शा हर एक राज़ किए जा रहा हूँ मैं

होगा कभी तो हुस्न-ए-हक़ीक़त नज़र-नवाज़

नज़्ज़ारा-ए-मजाज़ किए जा रहा हूँ मैं

नाकामी-ए-उमीद से घबरा न जाए दिल

क़िस्मत पर अपनी नाज़ किए जा रहा हूँ मैं

महरूम रह न जाए कोई तिश्ना-काम 'राज़'

अर्ज़ां शराब-ए-राज़ किए जा रहा हूँ मैं

Read More! Learn More!

Sootradhar