हुस्न-ए-सूरत देख कर रंग-ए-तबीअ'त देख कर's image
0305

हुस्न-ए-सूरत देख कर रंग-ए-तबीअ'त देख कर

ShareBookmarks

हुस्न-ए-सूरत देख कर रंग-ए-तबीअ'त देख कर

महव-ए-हैरत हूँ सवाद-ए-बज़्म-ए-ग़ुर्बत देख कर

मुझ से पूछे राज़ की बातें मुझे मा'लूम हैं

क्यूँ परेशाँ हो कोई नैरंग-ए-फ़ितरत देख कर

वाक़िआ' है वाक़िआ' अहल-ए-नज़र से पूछिए

हुस्न भी हैरत में है शान-ए-मोहब्बत देख कर

तेज़-गामी मुक़तज़ा-ए-जोश-ए-उल्फ़त ही सही

लेकिन ऐ रहरव नुक़ूश-ए-राह-ए-उल्फ़त देख कर

ऐ वतन सुब्ह-ए-वतन शाम-ए-वतन अहल-ए-वतन

याद आती है तुम्हारी दश्त-ए-ग़ुर्बत देख कर

मेरे साक़ी तेरे क़ुर्बां क्या कहूँ किस से कहूँ

ज़र्फ़-ए-मय-कश देख कर रंग-ए-तबीअ'त देख कर

बे-ख़ुदी में भी ख़याल-ए-हुस्न-ए-ख़ुद्दारी रहे

नग़्मा-ज़न हो 'राज़' रंग-ए-बज़्म-ए-ग़ुर्बत देख कर

Read More! Learn More!

Sootradhar