पीछे छूटी हुई चीज़ें's image
1 min read

पीछे छूटी हुई चीज़ें

Naresh SaxenaNaresh Saxena
0 Bookmarks 158 Reads0 Likes

पीछे छूटी हुई चीज़ें

बिजलियों को अपनी चमक दिउखाने की
इतनी जल्दी मचती थी
कि अपनी आवाज़ें पीछे छोड़ आती थीं
आवाज़ें आती थीं पीछा करतीं
अपनी गायब हो चुकी
बिजलियों को तलाशतीं

टूटते तारों की आवाज़ें सुनाई नहीं देतीं
वे इतनी दूर होते हैं
कि उनकी आवाज़ें कहीं
राह में भटक कर रह जाती हैं
हम तक पहुँच ही नहीं पातीं

कभी-कभी रातों के सन्नाटे में
चौंक कर उठ जाता हूँ
सोचता हुआ
कि कहीं यह सन्नाटा किसी ऐसी चीज़ के
टूटने का तो नहीं
जिसे हम हड़बड़ी में बहुत पीछे छोड़ आए हों !

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts