तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों's image
1 min read

तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों

Khwaja Haider Ali AatishKhwaja Haider Ali Aatish
Share0 Bookmarks 93 Reads

तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों

रही है एक तस्वीर-ए-ख़याली रू-ब-रू बरसों

हुआ मेहमान आ कर रात भर वो शम्अ'-रू बरसों

रहा रौशन मिरे घर का चराग़-ए-आरज़ू बरसों

बराबर जान के रक्खा है उस को मरते मरते तक

हमारी क़ब्र पर रोया करेगी आरज़ू बरसों

चमन में जा के भूले से मैं ख़स्ता-दिल कराहा था

किया की गुल से बुलबुल शिकवा-ए-दर्द-ए-गुलू बरसों

अगर मैं ख़ाक भी हूँगा तो 'आतिश' गर्द-बाद-आसा

रखेगी मुझ को सर-गश्ता किसी की जुस्तुजू बरसों

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts