जाहिलों को सलाम करना है's image
1 min read

जाहिलों को सलाम करना है

Fehmi Badayuni(फ़हीम बँदायुनी)Fehmi Badayuni(फ़हीम बँदायुनी)
Share0 Bookmarks 516 Reads

जाहिलों को सलाम करना है
और फिर झूट-मूट डरना है

काश वो रास्ते में मिल जाए
मुझ को मुँह फेर कर गुज़रना है

पूछती है सदा-ए-बाल-ओ-पर
क्या ज़मीं पर नहीं उतरना है

सोचना कुछ नहीं हमें फ़िलहाल
उन से कोई भी बात करना है

भूक से डगमगा रहे हैं पाँव
और बाज़ार से गुज़रना है

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts