मेरे पिता's image
चोट पर मरहम हैं 
चलती श्र्वाश हैं
जज़्बात हैं
एक अहसास हैं
अग्नी में जल सा हैं,
मेरा 'पिता' हैं वो!
मेरा 'पिता' हैं वो!!

कभी दुत्कारता  हैं
कभी सहलाता हैं
अपने पेरों पर चलना सिखाता हैं,
जिंदगी क्या है?
बतलाता हैं,
मेरा 'पिता' हैं वो!
मेरा 'पिता
Read More! Earn More! Learn More!