स्त्री और परंपरा's image
117K

स्त्री और परंपरा

स्त्री और परंपरा


वो स्त्री थी

उसने वेदनाएँ सही 

जीर्ण धारणाओं में जकड़ी रही

स्त्री धर्म समझ 

प्रथाओं को निभाती रही

अपने अंतर्मन को मारकर

स्वयं झुलसती रही

कई वर्ष बीते&nb

Read More! Earn More! Learn More!