सिर्फ़ तुम…'s image
Share0 Bookmarks 79217 Reads0 Likes

सिर्फ़ तुम…



सोचा उसपर एक कविता लिखूँ

पर शब्दों ने उसकी तस्वीर बना डाली

------------------------------------


तेरे स्पर्श के बिना अधूरा सा हूँ 

मेरा कलम सा नाता है तुमसे

-----------------------------------


लोग कहते है कि उन्हें बोलने से परहेज़ है

पर हमें तो उनकी ख़ामोशी भी सुनाई देती है

-----------------------------------------


मैंने दर्पण नहीं टाँगे चार दीवारी में कहीं

बस आँखों में तेरी खुद को देखने की चाह है

------------------------------------------


ख़रीद ली एक सौ आठ मणियों की माला मैंने

क्यूँकि हर मणि में तेरा नाम खुदा था

Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts