पंच पाप's image
301K

पंच पाप

पांडवो के शौर्य एवं तेज का निज क्षय हुआ

कुटिल कपटी राजनीति जीतना दुर्जय हुआ


बहु सभ्यजन आलोक में विषद यह घटना घटी

धर्मवीर सानिध्य में जो पांच पापो में बंटी


न अपराध पांडवो का वर्णनों के योग्य है

न नीच कुरुओं की दशा किसी भांति शोभ्य है


पर पांच पापो के परे कहना अधिक असभ्य होगा

न इतिहास भूलेगा इसे, न भविष्य ही सुगम्य होगा


बहुभांती राज्य को मिले कृपा किसी भीष्म की

चाहे मिले आशीषता अनूपम तपों के भस्म की


वह हर प्रतिज्ञा अपराधिनी, जो लोकनीति के परे

निज धर्म रक्षण नहीं जहां गरिमा नारी की मरे


यही प्रथम पाप विनाश का आधार निर्मित कर रहा

Read More! Earn More! Learn More!