क्रांति बीज's image
119K

क्रांति बीज


सदियों से 

जमी जड़ता को तोड़

अन्याय से स्याही निचोड़

अधिकारों का नया सवेरा लिख देता है

जब क्रांति करता है

महज धूप का एक छोटा सा टुकड़ा


अत्याचारों से डरे सहमे

कुम्लहाये से मन में

सत्यमेव जयते

का विश्वास जगा देती है 

जब क्रांति करती है

महज एक निर्भीक कलम


घटाटोप अंधकार

Read More! Earn More! Learn More!