हुस्न बाज़ार हुआ क्या कि हुनर ख़त्म हुआ's image
1 min read

हुस्न बाज़ार हुआ क्या कि हुनर ख़त्म हुआ

Wasim BarelviWasim Barelvi
Share0 Bookmarks 102 Reads

हुस्न बाज़ार हुआ क्या कि हुनर ख़त्म हुआ
आया पलको पे तो आँसू का सफ़र ख़त्म हुआ

उम्र भर तुझसे बिछड़ने की कसक ही न गयी ,
कौन कहता है की मुहब्बत का असर ख़त्म हुआ

नयी कालोनी में बच्चों की ज़िदे ले तो गईं ,
बाप दादा का बनाया हुआ घर ख़त्म हुआ

जा, हमेशा को मुझे छोड़ के जाने वाले ,
तुझ से हर लम्हा बिछड़ने का तो डर ख़त्म हुआ.

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts