जिसे इश्क़ का तीर कारी लगे's image
1 min read

जिसे इश्क़ का तीर कारी लगे

Wali Muhammad WaliWali Muhammad Wali
Share0 Bookmarks 121 Reads

जिसे इश्क़ का तीर कारी लगे

उसे ज़िंदगी क्यूँ न भारी लगे

न छोड़े मोहब्बत दम-ए-मर्ग तक

जिसे यार-ए-जानी सूँ यारी लगे

न होवे उसे जग में हरगिज़ क़रार

जिसे इश्क़ की बे-क़रारी लगे

हर इक वक़्त मुझ आशिक़-ए-पाक कूँ

प्यारे तिरी बात प्यारी लगे

'वली' कूँ कहे तू अगर यक बचन

रक़ीबाँ के दिल में कटारी लगे

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts