मैं जन्मी तब's image
0132

मैं जन्मी तब

ShareBookmarks

मैं जन्मी तब
छठी के दिन
नानी ने तांबे की तश्तरी दीये पर रखकर
बडी उमंग से
काजल बना कर
मेरी आँखों में लगाया था ।

अभी पिछले साल ही
मेरी बेटी के घर बेटी जन्मी
तब मैंने भी
छठी के दिन
उमंग के साथ काजल बनाकर
अपनी दौहित्री की
स्वप्नभरी आँखों में लगाया था ।

आज,
इस ढलती साँझ में
आगजनी में जलकर
काले स्याह हो गए
अपने शहर के मकानों को देखकर
मन में आता है

किसकी छठी के लिए
बनाया गया है
इतना सारा काजल ?

मूल गुजराती से अनुवाद : स्वयं कवयित्री द्वारा

 

Read More! Learn More!

Sootradhar