गज अलि मीन पतंग मृग's image
0936

गज अलि मीन पतंग मृग

ShareBookmarks

गज अलि मीन पतंग मृग, इक-इक दोष बिनाश।

जाके तन पाँचौं बसै, ताकी कैसी आश॥

सुंदर जाके बित्त है, सो वह राखैं गोइ।

कौडी फिरै उछालतो, जो टुटपूँज्यो होइ॥

मन ही बडौ कपूत है, मन ही बडौ सपूत।

'सुंदर जौ मन थिर रहै, तो मन ही अवधूत॥

 

Read More! Learn More!

Sootradhar