एकनि के बचन सुनत अति सुख होई's image
0305

एकनि के बचन सुनत अति सुख होई

ShareBookmarks

एकनि के बचन सुनत अति सुख होई ,
फल से झरत हैं अधिक मनभावने.
एकनि के बचन पखान बरषत मानौ,
स्रवन कै सुनतहिं लगत अनखावन .
एकनि के बचन कंटक कटुक विषरूप,
करत मरम छेद, दुख उपजावने .
सुंदर कहत घट-घट में बचन भेद ,
उत्तम अरु मध्यम अरु अधम सुनावने.

Read More! Learn More!

Sootradhar