तुम्हारी ज़ुल्फ़ का हर तार मोहन's image
1 min read

तुम्हारी ज़ुल्फ़ का हर तार मोहन

Siraj AurangabadiSiraj Aurangabadi
Share0 Bookmarks 98 Reads

तुम्हारी ज़ुल्फ़ का हर तार मोहन

हुआ मेरे गले का हार मोहन

तसव्वुर कर तिरा हुस्न-ए-अरक़-नाक

मिरी आँखें हैं गौहर-बार मोहन

दम-ए-आख़िर तलक हूँ काफ़िर-ए-इश्क़

हुआ तार-ए-नफ़स ज़ुन्नार मोहन

बिरह का जान कुंदन है निपट सख़्त

दिखा इस वक़्त पर दीदार मोहन

हमारे मुसहफ़-ए-दिल की क़सम खा

किया है ज़ुल्म का इंकार मोहन

गुल-ए-आरिज़ कूँ तेरे याद कर कर

हुआ है दिल मिरा गुलज़ार मोहन

'सिराज' आतिश में है तेरे फ़िराक़ों

बुझा जा महर सीं यक बार मोहन

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts