रुबाई's image
0142

रुबाई

ShareBookmarks

रुबाई
1.

हम अपने खयाल को सनम समझे थे,
अपने को खयाल से भी कम समझे थे!
होना था- समझना न था कुछ भी, शमशेर,
होना भी कहाँ था वह जो हम समझे थे!

2.

था बहती सदफ में बंद यकता गौहर:
ऐसे आलम में किसको तकता गौहर!
दिल अपना जो देख सकता ठहरा है कहाँ-
दरिया का सुकून देख सकता गौहर!

 

Read More! Learn More!

Sootradhar