ज़िंदगी जब भी तिरी बज़्म में लाती है हमें's image
0177

ज़िंदगी जब भी तिरी बज़्म में लाती है हमें

ShareBookmarks

ज़िंदगी जब भी तिरी बज़्म में लाती है हमें

ये ज़मीं चाँद से बेहतर नज़र आती है हमें

सुर्ख़ फूलों से महक उठती हैं दिल की राहें

दिन ढले यूँ तिरी आवाज़ बुलाती है हमें

याद तेरी कभी दस्तक कभी सरगोशी से

रात के पिछले-पहर रोज़ जगाती है हमें

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यूँ है

अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें

Read More! Learn More!

Sootradhar