जलते थे तुम कूँ देख के ग़ैर अंजुमन में हम's image
1 min read

जलते थे तुम कूँ देख के ग़ैर अंजुमन में हम

Shah Mubarak AbrooShah Mubarak Abroo
Share0 Bookmarks 75 Reads

जलते थे तुम कूँ देख के ग़ैर अंजुमन में हम

पहुँचे थे रात शम्अ के हो कर बरन में हम

तुझ बिन जगह शराब की पीते थे दम-ब-दम

प्याले सीं गुल के ख़ून जिगर का चमन में हम

लाते नहीं ज़बान पे आशिक़ दिलों का भेद

करते हैं अपनी जान की बातें नयन में हम

मरते हैं जान अब तो नज़र भर के देख लो

जीते नहीं रहेंगे सजन इस यथन में हम

आती है उस की बू सी मुझे यासमन में आज

देखी थी जो अदा कि सजन के बदन में हम

जो कुइ कि हैगा आप कूँ रखता है आप अज़ीज़

यूसुफ़ हैं अपने दिल के मियाँ पैरहन में हम

क्यूँ कर न होवे क्लिक हमारा गुहर-फ़िशाँ

करते हैं 'आबरू' ये तख़ल्लुस सुख़न में हम

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts