मैं वह धनु हूँ's image
1 min read

मैं वह धनु हूँ

Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"Sachchidananda Vatsyayan "Agyeya"
Share0 Bookmarks 179 Reads

मैं वह धनु हूँ, जिसे साधने
में प्रत्यंचा टूट गई है।
स्खलित हुआ है बाण, यदपि ध्वनि
दिग्दिगन्त में फूट गई है--
प्रलय-स्वर है वह, या है बस
मेरी लज्जाजनक पराजय,
या कि सफलता ! कौन कहेगा
क्या उस में है विधि का आशय !
क्या मेरे कर्मों का संचय
मुझ को चिन्ता छूट गई है--
मैं बस जानूँ, मैं धनु हूँ, जिस
की प्रत्यंचा टूट गई है!

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts