सेस गनेस महेस's image
1 min read

सेस गनेस महेस

RaskhanRaskhan
Share0 Bookmarks 1268 Reads

सेस गनेस महेस दिनेस, सुरेसहु जाहि निरंतर गावै।

जाहि अनादि अनंत अखण्ड, अछेद अभेद सुबेद बतावैं॥

नारद से सुक व्यास रटें, पचिहारे तऊ पुनि पार न पावैं।

ताहि अहीर की छोहरियाँ, छछिया भरि छाछ पै नाच नचावैं॥

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts