परावर्तन's image

साँझ के समय
भौंक रहे हैं कुत्ते गली में मिल कर
आधी रात के सन्नाटे में
सियार करते हैं हुआँ हुआँ
लौट कर आते हैं पहले किए हुए पाप
भीतर ही भीतर गँसते हैं धँसते हैं।

जो दिन बीत चुका था
और जिसे दफ़ना आए थे मन के मसान में
वह अचानक उठ खड़ा होता है
जैसे सपना टूटने पर आदमी।

वह अचानक भीतर की कोई खिड़की खोल कर झाँकता है
और लगाता है ज़ोर से पुकार : यह आ गया मैं!

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts