मैं जो कोई's image
095

मैं जो कोई

ShareBookmarks

जो कोई भी मैं होऊँ
देववाणी का दास मैं
नाटक का कलाविलास
भास मैं
कविता में कवि कालिदास मैं
अपने युग का एक व्यास मैं
और समय का नया समास मैं
फिर भी कुछ नहीं खास मैं

धन्य मैं जो धरती के सबसे सुंदर को धारण कर सका
छोटा से छोटा होकर भी
प्रिय और विराट्।

Read More! Learn More!

Sootradhar