निगाह-ए-शौक़ वक़्फ़-ए-हुस्न-ए-फ़ितरत होती जाती है's image
1 min read

निगाह-ए-शौक़ वक़्फ़-ए-हुस्न-ए-फ़ितरत होती जाती है

Raaz ChandpuriRaaz Chandpuri
0 Bookmarks 93 Reads0 Likes

निगाह-ए-शौक़ वक़्फ़-ए-हुस्न-ए-फ़ितरत होती जाती है

तबीअ'त महरम-ए-राज़-ए-मोहब्बत होती जाती है

नुमायाँ शोख़ी-ए-रंग-ए-तबीअ'त होती जाती है

कि हर काफ़िर अदा से अब मोहब्बत होती जाती है

मोहब्बत आह क्या शय है मोहब्बत क्या कहूँ तुम से

मुझे मा'लूम दिल की क़द्र-ओ-क़ीमत होती जाती है

मिरा ज़ौक़-ए-परस्तिश है जुदा सारे ज़माने से

मोहब्बत करता जाता हूँ इबादत होती जाती है

मैं जितना ग़ौर करता हूँ निज़ाम-ए-बज़्म-ए-हस्ती पर

इसी निस्बत से ज़ाहिर अब हक़ीक़त होती जाती है

जफ़ा-ए-चर्ख़ कज-बुनियाद को राहत समझता हूँ

दलील-ए-राह-ए-इरफ़ाँ हर मुसीबत होती जाती है

क़यामत है कि अरबाब-ए-मोहब्बत उठते जाते हैं

नज़र वालों से ख़ाली बज़्म-ए-फितरत होती जाती है

वतन वालों से कोई काश कह दे 'राज़' ये जा कर

बहार-ए-ज़िंदगानी नज़्र-ए-ग़ुर्बत होती जाती है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts