निगाह-ए-इश्क़ में ताबिंदगी नहीं मिलती's image
1 min read

निगाह-ए-इश्क़ में ताबिंदगी नहीं मिलती

Raaz ChandpuriRaaz Chandpuri
Share0 Bookmarks 110 Reads

निगाह-ए-इश्क़ में ताबिंदगी नहीं मिलती

चराग़-ए-हुस्न से अब रौशनी नहीं मिलती

सर-ए-नियाज़ झुकाएगा क्या कोई ख़ुद्दार

निगाह-ए-नाज़ से जब दाद ही नहीं मिलती

शरीक-ए-दर्द-ए-मोहब्बत कोई नहीं होता

किसी से दाद-ए-मोहब्बत कभी नहीं मिलती

निगाह-ए-साक़ी-ए-रा'ना का ये भी एहसाँ है

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़ मय-ए-आगही नहीं मिलती

ये मय-कदा है यहाँ क़ैद-ए-ज़र्फ़-ए-ज़ौक़ भी है

ये क्या कहा कि मय-ए-ज़िंदगी नहीं मिलती

ज़िया-ए-हुस्न है महदूद बज़्म-ए-इम्काँ तक

फिर इस के बा'द कहीं रौशनी नहीं मिलती

बजा है आप का इरशाद मानता हूँ मैं

कलाम-ए-'राज़' में अब ज़िंदगी नहीं मिलती

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts