इशरत-ए-हाल में अंदेशा-ए-फ़र्दा करना's image
099

इशरत-ए-हाल में अंदेशा-ए-फ़र्दा करना

ShareBookmarks

इशरत-ए-हाल में अंदेशा-ए-फ़र्दा करना

मेरे मशरब में नहीं ये ग़म-ए-बेजा करना

फ़िक्र-ए-अंजाम नहीं फ़र्ज़ किसी मय-कश पर

हाँ मगर बादा-ए-आग़ाज़ की पर्वा करना

महव-ए-नज़्ज़ारा ज़माना है मगर हासिल-ए-दीद

ऐसा आसाँ नहीं दुनिया का नज़ारा करना

हासिल-ए-ज़ीस्त है क्या मय-कदा-ए-हस्ती में

तल्ख़ी-ए-बादा-ए-उम्मीद गवारा करना

देख ऐ बे-ख़ुदी-ए-शौक़-ए-परस्तिश होशियार

हुस्न-ए-ख़ुद्दार को महफ़िल में न रुस्वा करना

लाख मायूब न हो फिर भी नहीं मुस्तहसन

हज़रत-ए-दोस्त में इज़्हार-ए-तमन्ना करना

सौ तरीक़े हैं परस्तिश के अगर ज़ौक़ हो कुछ

क्या बड़ी बात है कोई उसे सज्दा करना

तर्क-ए-मय कुफ़्र है ऐ 'राज़' मिरे मशरब में

ऐन ईमाँ है सर-ए-साग़र-ओ-मीना करना

 

Read More! Learn More!

Sootradhar