हम-नशीं ऐसी कोई तदबीर होनी चाहिए's image
1 min read

हम-नशीं ऐसी कोई तदबीर होनी चाहिए

Raaz ChandpuriRaaz Chandpuri
Share0 Bookmarks 100 Reads

हम-नशीं ऐसी कोई तदबीर होनी चाहिए

मेरे क़ब्ज़े में मिरी तक़दीर होनी चाहिए

ख़त्म होना चाहिए अब क़िस्सा-ए-दैर-ओ-हरम

ख़ानक़ाह-ए-ज़िंदगी ता'मीर होनी चाहिए

इम्तियाज़-ए-कुफ़्र-ओ-ईमाँ वक़्त पर हो जाएगा

दावत-ए-मय-ख़ाना आलमगीर होनी चाहिए

और बढ़ जाएँ ज़रा तिश्ना-लबी की तल्ख़ियाँ

दौर-ए-साग़र में अभी ताख़ीर होनी चाहिए

इस तरह तो नज़्म-ए-आलम मुंतशिर हो जाएगा

ख़ुद-परस्ती क़ाबिल-ए-ताज़ीर होनी चाहिए

रहज़न-ए-ईमाँ हैं दोनों शैख़ हो या बरहमन

इन से बचने की कोई तदबीर होनी चाहिए

मरकज़-ए-हुस्न-ओ-मोहब्बत मतला-ए-मेहर-ओ-वफ़ा

दिल के आईने में इक तस्वीर होनी चाहिए

ता-ब-कै ये लन-तरानी होशियार ऐ बर्क़-ए-तूर

आरज़ू-ए-दीद की तौक़ीर होनी चाहिए

ता-ब-कै ये बे-नियाज़ी ऐ हरीफ़ान-ए-सुख़न

अब ज़बान-ए-'राज़' आलमगीर होनी चाहिए

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts