सुर्ख़ियाँ क्यूँ ढूँढ कर लाऊँ फ़साने के लिए's image
0100

सुर्ख़ियाँ क्यूँ ढूँढ कर लाऊँ फ़साने के लिए

ShareBookmarks

सुर्ख़ियाँ क्यूँ ढूँढ कर लाऊँ फ़साने के लिए

बस तुम्हारा नाम काफ़ी है ज़माने के लिए

मौजें साहिल से हटाती हैं हबाबों का हुजूम

वो चले आए हैं साहिल पर नहाने के लिए

सोचता हूँ अब कहीं बिजली गिरी तो क्यूँ गिरी

तिनके लाया था कहाँ से आशियाने के लिए

छोड़ कर बस्ती ये दीवाने कहाँ से आ गए

दश्त की बैठी-बिठाई ख़ाक उड़ाने के लिए

हँस के कहते हो ज़माना भर मुझी पर जान दे

रह गए हो क्या तुम्हीं सारे ज़माने के लिए

शाम को आओगे तुम अच्छा अभी होती है शाम

गेसुओं को खोल दो सूरज छुपाने के लिए

काएनात-ए-इश्क़ इक दिल के सिवा कुछ भी नहीं

वो ही आने के लिए है वो ही जाने के लिए

ऐ ज़माने भर को ख़ुशियाँ देने वाले ये बता

क्या 'क़मर' ही रह गया है ग़म उठाने के लिए

Read More! Learn More!

Sootradhar