किसी सूरत सहर नहीं होती's image
0131

किसी सूरत सहर नहीं होती

ShareBookmarks

किसी सूरत सहर नहीं होती

रात इधर से उधर नहीं होती

ख़ौफ़ सय्याद से न बर्क़ का डर

बात ये अपने घर नहीं होती

एक वो हैं कि रोज़ आते हैं

एक हम हैं ख़बर नहीं होती

अब मैं समझा हूँ काट कर शब-ए-ग़म

ज़िंदगी मुख़्तसर नहीं होती

कितनी पाबंद-ए-वज़्अ है शब-ए-ग़म

कभी ग़ैरों के घर नहीं होती

कितनी सीधी है राह-ए-मुल्क-ए-अदम

हाजत-ए-राहबर नहीं होती

सुन लिया होगा तुम ने हाल-ए-मरीज़

अब दवा कारगर नहीं होती

अर्श मिलता है मेरी आहों से

लेकिन उन को ख़बर नहीं होती

Read More! Learn More!

Sootradhar