करेंगे शिकवा-ए-जौर-ओ-जफ़ा दिल खोल कर अपना's image
0219

करेंगे शिकवा-ए-जौर-ओ-जफ़ा दिल खोल कर अपना

ShareBookmarks

करेंगे शिकवा-ए-जौर-ओ-जफ़ा दिल खोल कर अपना

कि ये मैदान-ए-महशर है न घर उन का न घर अपना

मकाँ देखा किए मुड़ मुड़ के ता-हद्द-ए-नज़र अपना

जो बस चलता तो ले आते क़फ़स में घर का घर अपना

बहे जब आँख से आँसू बढ़ा सोज़-ए-जिगर अपना

हमेशा मेंह बरसते में जला करता है घर अपना

पसीना अश्क हसरत बे-क़रारी आख़िरी हिचकी

इकट्ठा कर रहा हूँ आज सामान-ए-सफ़र अपना

ये शब का ख़्वाब या-रब फ़स्ल-ए-गुल में सच न हो जाए

क़फ़स के सामने जलते हुए देखा है घर अपना

दम-ए-आख़िर इलाज-ए-सोज़-ए-ग़म कहने की बातें हैं

मिरा रस्ता न रोकें रास्ता लें चारा-गर अपना

निशानात-ए-जबीं जोश-ए-अक़ीदत ख़ुद बता देंगे

न पूछो मुझ से सज्दे जा के देखो संग-ए-दर अपना

जवाब-ए-ख़त का उन के सामने कब होश रहता है

बताते हैं पता मेरे बजाए नामा-बर अपना

मुझे ऐ क़ब्र दुनिया चैन से रहने नहीं देती

चला आया हूँ इतनी बात पर घर छोड़ कर अपना

शिकन-आलूद बिस्तर हर शिकन पर ख़ून के धब्बे

ये हाल-ए-शाम-ए-ग़म लिक्खा है हम ने ता-सहर अपना

यही तीर-ए-नज़र तो हैं मिरे दिल में हसीनों के

जो पहचानो तो लो पहचान लो तीर-ए-नज़र अपना

'क़मर' उन को न आना था न आए सुब्ह होने तक

शब-ए-व'अदा सजाते ही रहे घर रात भर अपना

ज़मीं मुझ से मुनव्वर आसमाँ रौशन मिरे दम से

ख़ुदा के फ़ज़्ल से दोनों जगह क़ब्ज़ा 'क़मर' अपना

 

Read More! Learn More!

Sootradhar