इस में कोई फ़रेब तो ऐ आसमाँ नहीं's image
0121

इस में कोई फ़रेब तो ऐ आसमाँ नहीं

ShareBookmarks

इस में कोई फ़रेब तो ऐ आसमाँ नहीं

बिजली वहाँ गिरी है जहाँ आशियाँ नहीं

सय्याद मैं असीर कहूँ किस से हाल-ए-दिल

सिर्फ़ एक तू है वो भी मिरा हम-ज़बाँ नहीं

तुम ने दिया हमारी वफ़ाओं का क्या जवाब

ये हम वहाँ बताएँगे तुम को यहाँ नहीं

सज्दे जो बुत-कदे में किए मेरी क्या ख़ता

तुम ने कभी कहा ये मिरा आस्ताँ नहीं

गुम-कर्दा राह की कहीं मिट्टी न हो ख़राब

गर्द उस तरफ़ उड़ी है जिधर कारवाँ नहीं

क्यूँ शम्-ए-इंतिज़ार बुझाते हो ऐ 'क़मर'

नाले हैं ये किसी के सहर की अज़ाँ नहीं

 

Read More! Learn More!

Sootradhar