अबरू तो दिखा दीजिए शमशीर से पहले's image
094

अबरू तो दिखा दीजिए शमशीर से पहले

ShareBookmarks

अबरू तो दिखा दीजिए शमशीर से पहले

तक़्सीर तो कुछ हो मिरी ताज़ीर से पहले

मालूम हुआ अब मिरी क़िस्मत में नहीं तुम

मिलना था मुझे कातिब-ए-तक़दीर से पहले

ऐ दस्त-ए-जुनूँ तोड़ न दरवाज़ा-ए-ज़िंदाँ

मैं पूछ तो लूँ पाँव की ज़ंजीर से पहले

अच्छा हुआ आख़िर मिरी क़िस्मत में सितम थे

तुम मिल गए मुझ को फ़लक-ए-पीर से पहले

बैठे रहो ऐसी भी मुसव्विर से हया क्या

काहे को खिंचे जाते हो तस्वीर से पहले

देखो तो 'क़मर' उन को बुला कर शब-ए-वादा

तक़दीर पे बरहम न हो तदबीर से पहले

Read More! Learn More!

Sootradhar