थकान's image
0137

थकान

ShareBookmarks

थकान मेरे पैरों में घिसट रही है

मेरी ज़ुबान में लड़खड़ा रही है

मेरी पलकों में हो रही है बोझिल

जीत में मिली थकान को

ख़ुशी लपककर चाट चुकी है

प्रतीक्षा से उपजी थकान को

प्रेम ने बांहों में भर लिया है

इतिहास में सुस्ताती थकान

विवादास्पद बना दी गयी है

चलना शुरू करने जितनी नहीं

रोना शुरू करने जितनी पुरानी

कल की थकान मेरे कल में उतर रही है.

Read More! Learn More!

Sootradhar