चाहत's image
0174

चाहत

ShareBookmarks

किसी और ने नहीं अपने धर्म को यह अधिकार

मैंने ही दिया है कि वह जब चाहे

सूखी लकड़ी की तरह झोंक दे मुझे आग में

अपनी तलवार से किसी पशु की

गरदन की तरह काट दे वह मेरा भी गला

और मेरा ख़ून बहा दे नालियों में

उस पिंजरे में जाकर मैं ख़ुद ही बैठा हूं

जिससे बाहर निकलकर उड़ने की सोचना

अपने आपसे घृणा करना है

अपनी क़ीमत पर अपने धर्म को

अपना मालिक बनाकर मैं बहुत ख़ुश हूं

मैं अपने मालिक को दुनिया के

सब मालिकों में सबसे ऊपर देखना चाहता हूं

मैं चाहता हूं कि मेरे मालिक के पास

मेरी तरह अपनी ज़िन्दगी से खेलने का अधिकार

सौंप देने वालों की संख्या भी सबसे ज़्यादा हो.

 

Read More! Learn More!

Sootradhar