भारत के इतिहास में सोलह मई दो हजार चउदह's image
2 min read

भारत के इतिहास में सोलह मई दो हजार चउदह

Pawan KaranPawan Karan
Share0 Bookmarks 341 Reads

भारत के इतिहास में सोलह मई दो हजार चउदह
एक ऐसा दिन बनकर आया जिसे देखने के लिए
भारत का इतिहास अब तक तरसता रहा

सुबह मात्र दो घण्टे के भीतर अचानक
भरभराकर ढह गईं जाति और धर्म की दीवारें,
देखते-देखते भारत के भीतर वर्ग और वर्ण से
बाहर निकलकर खडे़ हो गए लोग

देखते ही देखते हिन्दू और मुसलमान
एक थाली में खाने लगे खीर और खिचड़ा
बैठकर आपस में सुलझाने लगे अपने विवाद
उनके बीच के सारे भय मिट गए और
मन्दिर-मस्ज़िद से सटीं दीवारों को
उन्होंने हक़ीक़त मान लिया और यहाँ तक
कहने लगे वे कि अब धर्म से ऊपर हैं
और अब हमे धर्म से कुछ लेना-देना नहीं हैं
न हम हिन्दू हैं और न मुसलमान
हम तो बस मनुष्य हैं, बस मनुष्य

स्वर्णों के मोहल्लों से दलितों दूल्हों का
न निकल पाना पल में विस्मृत हो गया
देखते-देखते स्वर्ण के घर से उठकर
दलित के घर जाने लगी डोली
रोटी-बेटी के रिश्ते बन गए दोनों में
एक खाट पर बैठकर पीते हुए लस्सी
दोनोें एक साथ बोले जात-पात
छुआ-छूत क्या होती है जनाब
हम अब इस घृणा से ऊपर उठ गए हैं
हमने इस सबसे ऊपर उठकर
खुद को व्यक्त किया है, हम अबसे
बस भारतीय हैं और हमारी कोई जात नहीं

भारत के इतिहास में सोलह मई दो हजार चउदह
जिसमें रात को दिन होने में नहीं लगा समय
यानि नायक का वह करिश्मा जिसे
कोई नहीं दिखा सका आज तक
कि यह इतने आश्चर्य की तरह दिखा
कि वक्त भी दाँतो तले उँगली दबा बैठा ।

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts