फूलों और किताबों से आरास्ता's image
1 min read

फूलों और किताबों से आरास्ता

Parveen ShakirParveen Shakir
Share0 Bookmarks 118 Reads

फूलों और किताबों से आरास्ता[1] घर है
तन की हर आसाइश देने वाला साथी
आँखों को ठंडक पहुँचाने वाला बच्चा
लेकिन उस आसाइश, उस ठंडक के रंगमहल में
जहाँ कहीं जाती हूँ
बुनियादों में बेहद गहरे चुनी हुई
एक आवाज़ बराबर गिरयः[2] करती है
मुझे निकालो !
मुझे निकालो !

1सुसज्जित
2विलाप

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts