कहा करौ बैकुंठहि जाय's image
0167

कहा करौ बैकुंठहि जाय

ShareBookmarks

कहा करौ बैकुंठहि जाय?
जहाँ नहि नन्द जसोदा गोपी, जहाँ नहीं ग्वाल-बाल और गाय।
जहाँ न जल जमुना कौ निर्मल, और नहीं कदमनि की हाय।
'परमानन्द' प्रभुचतुर ग्वालिनी, बज-रज तजि मेरी जाइ बलाय।।

Read More! Learn More!

Sootradhar