चैत्र मास संवत्सर's image
0118

चैत्र मास संवत्सर

ShareBookmarks

चैत्र मास संवत्सर परिवा बरस प्रवेस भयो है आज।
कुंज महल बैठे पिय प्यारी लालन पहरे नौतन साज॥१॥
आपुही कुसुम हार गुहि लीने क्रीडा करत लाल मन भावत।
बीरी देत दास परमानंद हरखि निरखि जस गावत॥२॥

 

Read More! Learn More!

Sootradhar