ये मेरे पास जो चुप-चाप आए बैठे हैं's image
0122

ये मेरे पास जो चुप-चाप आए बैठे हैं

ShareBookmarks

ये मेरे पास जो चुप-चाप आए बैठे हैं

हज़ार फ़ित्ना-ए-महशर उठाए बैठे हैं

अदू से बज़्म-ए-अदू में लड़ा रहे हो निगाह

नहीं ख़याल कि अपने पराए बैठे हैं

कहीं न उन की नज़र से नज़र किसी की लड़े

वो इस लिहाज़ से आँखें झुकाए बैठे हैं

कोई हसीं नज़र आया ये बे-क़रार हुए

जनाब-ए-'नूह' को हम आज़माए बैठे हैं

Read More! Learn More!

Sootradhar