मैं किसी शोख़ की गली में नहीं's image
0158

मैं किसी शोख़ की गली में नहीं

ShareBookmarks

मैं किसी शोख़ की गली में नहीं

ज़िंदगी मेरी ज़िंदगी में नहीं

हम वफ़ा की उमीद क्या रक्खें

किस में होगी जो आप ही में नहीं

कोई कैसा है कोई कैसा है

आदमिय्यत हर आदमी में नहीं

तज़्किरा ही वफ़ा का सुनता हूँ

ये किसी में है या किसी में नहीं

उस का मिलना है अपने खोने पर

फ़िल-हक़ीक़त ख़ुदा ख़ुदी में नहीं

किस से पूछूँ कि रात क्या गुज़री

अहल-ए-बज़्म अपने होश ही में नहीं

वो घटा आसमान पर उट्ठी

उज़्र अब मुझ को मय-कशी में नहीं

गुफ़्तुगू उन की दोस्ती में है

शक हमें उन की दुश्मनी में नहीं

है ख़ुदी और बे-ख़ुदी कुछ और

बे-ख़ुदी का मज़ा ख़ुदी में नहीं

कोई चिलमन उठाए बैठा है

कोई अपने हवास ही में नहीं

ग़ौर से देखिए तो सब कुछ है

कौन सी बात आदमी में नहीं

ये भी हो वो भी हो तो लुत्फ़ आए

कुछ नहीं लाग अगर लगी में नहीं

कौन सा वस्फ़ कौन सी ख़ूबी

हज़रत-ए-'नूह-नारवी' में नहीं

Read More! Learn More!

Sootradhar