रक्खी हरगिज़ न तिरे रुख़ ने रुख़-ए-बद्र की क़द्र's image
082

रक्खी हरगिज़ न तिरे रुख़ ने रुख़-ए-बद्र की क़द्र

ShareBookmarks

रक्खी हरगिज़ न तिरे रुख़ ने रुख़-ए-बद्र की क़द्र

खोई काकुल ने भी आख़िर को शब-ए-क़द्र की क़द्र

इज़्ज़त-ओ-क़द्र की उस गुल से तवक़्क़ो है अबस

वाँ न इज़्ज़त की कुछ इज़्ज़त है न कुछ क़द्र की क़द्र

रास्ती ख़्वार है उस चश्म-ए-फ़ुसूँ-परवर से

हाँ मगर मंज़िलत-ए-मक्र है और ग़द्र की क़द्र

मय-परस्तों में है यूँ साग़र-ओ-मीना का वक़ार

जैसे इस्लाम में हो मोहतसिब ओ सद्र की क़द्र

कफ़्श-बरदारी से उस महर की चमका है 'नज़ीर'

वर्ना क्या ख़ाक थी इस ज़र्रा-ए-बे-क़द्र की क़द्र

Read More! Learn More!

Sootradhar