आन रखता है अजब यार का लड़ कर चलना's image
0110

आन रखता है अजब यार का लड़ कर चलना

ShareBookmarks

आन रखता है अजब यार का लड़ कर चलना

हर क़दम नाज़ के ग़ुस्से में अकड़ कर चलना

जितने बन बन के निकलते हैं सनम नाम-ए-ख़ुदा

सब में भाता है मुझे उस का बिगड़ कर चलना

ना-तवानी का भला हो जो हुआ मुझ को नसीब

उस की दीवार की ईंटों को रगड़ कर चलना

उस की काकुल है बुरी मान कहा ऐ अफ़ई

देखियो उस से तू कांधा न रगड़ कर चलना

चलते चलते न ख़लिश कर फ़लक-ए-दूँ से 'नज़ीर'

फ़ाएदा क्या है कमीने से झगड़ कर चलना

Read More! Learn More!

Sootradhar