वो रुला कर हँस न पाया देर तक's image
0168

वो रुला कर हँस न पाया देर तक

ShareBookmarks

वो रुला कर हँस न पाया देर तक

जब मैं रो कर मुस्कुराया देर तक

भूलना चाहा कभी उस को अगर

और भी वो याद आया देर तक

ख़ुद-ब-ख़ुद बे-साख़्ता मैं हँस पड़ा

उस ने इस दर्जा रुलाया देर तक

भूके बच्चों की तसल्ली के लिए

माँ ने फिर पानी पकाया देर तक

गुनगुनाता जा रहा था इक फ़क़ीर

धूप रहती है न साया देर तक

कल अँधेरी रात में मेरी तरह

एक जुगनू जगमगाया देर तक

Read More! Learn More!

Sootradhar