दूसरा फ़ैसला नहीं होता's image
0574

दूसरा फ़ैसला नहीं होता

ShareBookmarks

दूसरा फ़ैसला नहीं होता

इश्क़ में मशवरा नहीं होता

ख़ुद ही सौ रास्ते निकलते हैं

जब कोई रास्ता नहीं होता

जब तलक रू-ब-रू न हो कोई

आइना आइना नहीं होता

अपना समझा तो कह दिया वर्ना

ग़ैर से तो गिला नहीं होता

कुछ न कुछ पहले खोना पड़ता है

मुफ़्त में तजरबा नहीं होता

Read More! Learn More!

Sootradhar