निरखो नयान ज्ञान के खोल's image
1 min read

निरखो नयान ज्ञान के खोल

Nathuram SharmaNathuram Sharma
Share0 Bookmarks 108 Reads

निरखो नयान ज्ञान के खोल,
प्रभु की ज्योति जगमगाती है।
देखो, दमक रही सब ठौर, चमके नहीं कहीं कुछ और,
प्यारी हमस ब की सिरमौर, उज्ज्वल अंकुर उपजाती है।
जिसने त्यागे विषय-विकार, मन में धारे विमल विचार,
समझा सदुपदेश का सार, उस को महिमा दरसाती है।
जिसको किया कुमति ने अन्ध, बिगड़ा जीवन का सुप्रबन्ध,
कुछ भी रहा न तप का गन्ध, झलके, पर न उसे पाती है।
जिसने झंझट की झर झेल, परखे जड़-चेतन के खेल,
अपना किया निरन्तर मेल, ‘शंकर’ उसको अपनाती है।

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts