डगमग डोले दीनानाथ's image
1 min read

डगमग डोले दीनानाथ

Nathuram SharmaNathuram Sharma
Share0 Bookmarks 121 Reads

डगमग डोले दीनानाथ,
नैया भव-सागर में मेरी।
मैंने भर-भर जीवन भार, छोड़े तन-वोहित बहुबार,
पहुंचा एक नहीं उस पारत्र यह भी काल-चक्र ने घेरी।
टूटा मेरुदण्ड-पतबार, कर-पग-पाते चलें न चार,
मनी मन-माझी ने हार, दरसे दुर्गती-रात अंधेरी।
ऊले अघ, झष-नक्र, भुजंग, झटकें-पटकें ताप-तरंग,
मिलकर कर्म-पवन के संग, तरणी भरती है चकफेरी।
ठोकर मरणाचल की खाय, फट कर डूब जायगी हाय,
‘शंकर’ अब तो पार लगाय, तेरी मार सही बहुतेरी।

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts