जुदाई मुझ को मारे डालती है's image
0114

जुदाई मुझ को मारे डालती है

ShareBookmarks

जुदाई मुझ को मारे डालती है

दुहाई मुझ को मारे डालती है

तुम्हारे इश्क़ में दुनिया है दुश्मन

ख़ुदाई मुझ को मारे डालती है

हसीनों की गली है और मैं हूँ

गदाई मुझ को मारे डालती है

तिरी जल्लाद आँखों की सितमगर

सफ़ाई मुझ को मारे डालती है

असीरी में मज़ा था फ़स्ल-ए-गुल का

रिहाई मुझ को मारे डालती है

ख़फ़ा हैं वो दुआओं के असर पर

रसाई मुझ को मारे डालती है

किए देता है क़ातिल ज़ब्ह 'मुज़्तर'

कलाई मुझ को मारे डालती है

Read More! Learn More!

Sootradhar