जब कहा मैं ने कि मर मर के बचे हिज्र में हम's image
1 min read

जब कहा मैं ने कि मर मर के बचे हिज्र में हम

Muztar KhairabadiMuztar Khairabadi
Share0 Bookmarks 150 Reads

जब कहा मैं ने कि मर मर के बचे हिज्र में हम

हँस के बोले तुम्हें जीना था तो मर क्यूँ न गए

हम तो अल्लाह के घर जा के बहुत पछताए

जान देनी थी तो काफ़िर तिरे घर क्यूँ न गए

सू-ए-दोज़ख़ बुत-ए-काफ़िर को जो जाते देखा

हम ने जन्नत से कहा हाए उधर क्यूँ न गए

पहले उस सोच में मरते थे कि जीते क्यूँ हैं

अब हम इस फ़िक्र में जीते हैं कि मर क्यूँ न गए

ज़ाहिदो क्या सू-ए-मशरिक़ नहीं अल्लाह का घर

का'बे जाना था तो तुम लोग उधर क्यूँ न गए

तू ने आँखें तो मुझे देख के नीची कर लीं

मेरे दुश्मन तिरी नज़रों से उतर क्यूँ न गए

सुन के बोले वो मिरा हाल-ए-जुदाई 'मुज़्तर'

जब ये हालत थी तो फिर जी से गुज़र क्यूँ न गए

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts