अज़ल थे है मुजे ख़ूबाँ सूँ इख़्लास's image
1 min read

अज़ल थे है मुजे ख़ूबाँ सूँ इख़्लास

Muhammad Quli Qutb ShahMuhammad Quli Qutb Shah
Share0 Bookmarks 86 Reads

अज़ल थे है मुजे ख़ूबाँ सूँ इख़्लास

अबद लग मुज है महबूबाँ सूँ इख़्लास

अगर तूँ आशिक़-ए-सादिक़ है तालिब

न कर तूँ बाज मतलूबाँ सूँ इख़्लास

सकी का हुस्न कीता जज़्ब-ए-मौलूद

उसी ते मुज है मज्ज़ूबाँ सूँ इख़्लास

पियारी के छंदाँ है सब कूँ मर्ग़ूब

मुजे लाज़िम है मरग़ूबाँ सूँ इख़्लास

जो है मक्तूब मानिंद ख़ाल-ओ-ख़त सूँ

धरूँ मैं उस थे मकतूबाँ सूँ इख़्लास

नयन नारी के क़ुल्लाबे हैं मशहूर

धरूँ मैं उस थे मक़लूबाँ सूँ इख़्लास

नबी सदक़े क़ुतुब-शह कम-जिहत

सदा धरता है तू ख़ूबाँ सूँ इख़्लास

 

No posts

No posts

No posts

No posts

No posts